Budhu Ki Seekh – Jeevan Ka Satya – Hindi Spiritual Short Stories – Page 474

Click to enlarge

9 Responses to Budhu Ki Seekh – Jeevan Ka Satya – Hindi Spiritual Short Stories – Page 474

  1. sanjay says:

    Very nice,please mail me

  2. Nihit chauhan bhamta says:

    Nice

  3. md aabid says:

    i love you

  4. Raju Moti says:

    ये चन्द पंक्तियाँ जिसने भी लिखी है
    खूब लिखी है
    ग़लतियों से जुदा
    तू भी नही,
    मैं भी नही,
    दोनो इंसान हैं,
    खुदा तू भी नही,
    मैं भी नही … !
    ” तू मुझे ओर मैं तुझे
    इल्ज़ाम देते हैं मगर,
    अपने अंदर झाँकता
    तू भी नही,
    मैं भी नही ” … !!
    ” ग़लत फ़हमियों ने कर दी
    दोनो मैं पैदा दूरियाँ,
    वरना फितरत का बुरा
    तू भी नही,
    मैं भी नही…!!
    ➖➖➖➖➖
    एक पथ्थर सिर्फ एक बार मंदिर
    जाता है और भगवान बन जाता है ..
    इंसान हर रोज़ मंदिर जाते है फिर
    भी पथ्थर ही रहते है ..!!
    ➖➖➖➖➖
    एक औरत बेटे को जन्म देने के लिये
    अपनी सुन्दरता त्याग देती है…….
    और वही बेटा एक सुन्दर बीवी के लिए
    अपनी माँ को त्याग देता है
    ➖➖➖➖➖
    जीवन में हर जगह हम “जीत” चाहते हैं…
    सिर्फ फूलवाले की दूकान ऐसी है
    जहाँ हम कहते हैं कि “हार” चाहिए।
    क्योंकि हम भगवान से “जीत”
    नहीं सकते।
    ➖➖➖➖➖
    धीमें से पढ़े बहुत ही अर्थपूर्ण है यह
    मेसेज…
    हम और हमारे ईश्वर,
    दोनों एक जैसे हैं।
    जो रोज़ भूल जाते हैं…
    वो हमारी गलतियों को,
    हम उसकी मेहरबानियों को।
    ➖➖➖➖➖
    एक सुविचार
    वक़्त का पता नहीं चलता अपनों के
    साथ…..
    पर अपनों का पता चलता है, वक़्त के
    साथ…
    वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ,
    पर अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के
    साथ…!!!
    ➖➖➖➖➖
    ज़िन्दगी पल-पल ढलती है,
    जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है…
    शिकवे कितने भी हो हर पल,
    फिर भी हँसते रहना…क्योंकि ये
    ज़िन्दगी जैसी भी है,
    बस एक ही बार मिलती है।
    ..
    शेयर जरूर करे ताकि दुसरे
    भी इसको पढ सके ।।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: