Suvichar

Suvichar – Facebook page

सम्मान पाने के लिए सम्मान देना पड़ता है…. कोई नयी बात नहीं है, सबने सुना है, पर ऐसा कर कम ही लोग पाते हैं…. कारण भी वही पुराना… अहंकार…. व्यक्ति मानता है कि वह है ही इतना गुणी कि दूसरों को उसे सम्मान देना ही चाहिए…. जो नहीं देते वे अपराध करते हैं…. दूसरों में उसे या तो गुण दिखाई ही नहीं देते और यदि दिखते भी हैं तो या तो वह उन गुणों को सम्मान नहीं देता, बल्कि उनके प्रति ईर्ष्या पाल लेता है… अपने बारे में आपकी धारणा बदलने को तो नहीं कहूँगी, क्योंकि इससे आपका स्वयं में विश्वास चला जायेगा, और शुभचिंतक होने के नाते मैं ऐसा कदापि नहीं चाहूंगी…. केवल इतना कहूँगी, कि यदि आप दूसरों को अपने आगे हीन समझते हैं तो उनसे दया और प्रेम का व्यवहार कीजिये और यदि उन्हें अपने से श्रेष्ठ देखते हैं तो सम्मानजनक व्यवहार कीजिये…. आपके मन में क्या चल रहा है यह कोई नहीं समझ पायेगा, लेकिन आपके व्यवहार के कायल सब अवश्य हो जायेंगे….

suvichar

सम्मान पाने के लिए सम्मान देना पड़ता है…. कोई नयी बात नहीं है, सबने सुना है, पर ऐसा कर कम ही लोग पाते हैं…. कारण भी वही पुराना… अहंकार…. व्यक्ति मानता है कि वह है ही इतना गुणी कि दूसरों को उसे सम्मान देना ही चाहिए…. जो नहीं देते वे अपराध करते हैं…. दूसरों में उसे या तो गुण दिखाई ही नहीं देते और यदि दिखते भी हैं तो या तो वह उन गुणों को सम्मान नहीं देता, बल्कि उनके प्रति ईर्ष्या पाल लेता है… अपने बारे में आपकी धारणा बदलने को तो नहीं कहूँगी, क्योंकि इससे आपका स्वयं में विश्वास चला जायेगा, और शुभचिंतक होने के नाते मैं ऐसा कदापि नहीं चाहूंगी…. केवल इतना कहूँगी, कि यदि आप दूसरों को अपने आगे हीन समझते हैं तो उनसे दया और प्रेम का व्यवहार कीजिये और यदि उन्हें अपने से श्रेष्ठ देखते हैं तो सम्मानजनक व्यवहार कीजिये…. आपके मन में क्या चल रहा है यह कोई नहीं समझ पायेगा, लेकिन आपके व्यवहार के कायल सब अवश्य हो जायेंगे….

suvichaar

दिमाग अगर “प्रिंटर” होता तो ख्यालों का प्रिंटआउट निकाल लेते ,
मनमे अगर “ब्लूट्रुथ” होता तो भावनाओं को ट्रान्सफर कर देते .
धड़कन अगर “पेनड्राइव” होती तो जिन्दगी का बैकअप ले लेते ,

————————काश —————————————

जिन्दगी अगर “कंप्यूटर” होती तो खोये हुए पलों को रीस्टार्ट कर लेते

suvichar

एक आदमी ने देखा कि एक गरीब बच्चा उसकी कीमती कार को बड़े
गौर से निहार रहा है।
आदमी ने उस लड़के को कार में बिठा लिया।
लड़के ने कहा:- आपकी कार बहुत अच्छी है, बहुत
कीमती होगी ना ?
आदमी:- हाँ, मेरे भाई ने मुझे गिफ्ट दी है।
लड़का (कुछ सोचते हुए):- वाह ! आपके भाई कितने अच्छे हैं ।
आदमी:- मुझे पता है तुम क्या सोच रहे हो, तुम भी ऐसी कार
चाहते हो ना ?
लड़का:- नहीं ! मैं आपके भाई की तरह बनना चाहता हूँ ।

“अपनी सोच हमेशा ऊँची रखें, दूसरों की अपेक्षाओं से कहीं ज्यादा ऊँची”

suvichar

कमजोर व्यक्ति
कभी क्षमा नहीं करता
क्षमा करना महान
व्यक्ति की विशेषता
होती है ।।

india is great

Zindgi ka sabse Khubsurat lamha kaun sa hai.?
Jab aapka Parivaar aapko
Dost samajhne lage.
Aur
Dost aapko apna Parivaar…

suvichar

अगर संगत से ही तमाम खूबियाँ आ जातीं तो गन्ने के साथ साथ उगने वाले पौधों में रस क्यों नहीं होता …. ??

सिर्फ अच्छी संगत करने से ही कोई विद्वान अथवा साधु नहीं बन जायेगा …. संगत में सकारात्मक बातें सीखकर उन्हें अपने जीवन में व्यावहारिक रूप से उतारने पर ही संगत की सार्थकता होगी अन्यथा सब मरघटिया वैराग्य ही साबित होगा …. गन्ने ने खुद में धरती से रस खींचकर खुद को मीठा बना लेने की क्षमता विकसित कर ली हुई है इसलिए वह मीठा बन जाता है परन्तु उसके साथ ही उगनेवाली घास-फूस एवँ अन्य झाड़ियाँ रूखी ही रह जाती हैं ….

suvichar

हम सभी काबिल है लेकिन कामयाब नहीं है कारण एक
है हम पूर्ण जिम्मेवारी से अपना कार्य नहीं करते है | सत्य को छुपाने का प्रयत्न करते
है लेकिन सत्य छुपता नहीं है |आवश्यकता के अनुसार कमाया गया धन मनुष्य को
शांति और खुशी दोनों प्रदान करता है | जो दूसरों को खुश रखने का प्रयत्न करता है वो
स्वयं खुश रहता है | स्वार्थी लोगो को सुख नहीं मिल सकता है वो हमेशा आतंकित और
भयभीत रहते है | ईमानदार व्यक्ति के पास धन ज्यादा नहीं होता है और लालच भी
घट जाती है | प्रथम दृष्टि में जो लोग दूसरों को नुकसान पंहुचा कर स्वयम लाभान्वित
होने का प्रयत्न करते है वो क्षणिक सुख प्राप्त करते है पर उनका भविष्य उज्जवल नहीं
रहता है | भगवान की भक्ति और ईमानदार सोच ही मनुष्य को कामयाबी दिलवा सकती
है | धर्म के प्रति श्रद्धा और आस्था रखना पारंपरिक विधि है पर धर्म को दूसरों के ह्रदय
और आत्मा में कायम करना सतसंगत से संभव है |

1512539_662180407161105_1316411572_n

5 Responses to Suvichar

  1. kalpendra singh says:

    super

  2. sucvichaar aadmi ko unnati dilaate hai acharano me parivartan jaroor laayenge

  3. adharika lodha says:

    very nice

  4. Rajesh Bhandarkar says:

    Very good

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: